4% बढ़े टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स के शेयर के भाव, 21% तक उठ सकता है स्टॉक

Tata Consumer share latest news

भारत और विदेशी व्यवसाय के पुनर्गठन की घोषणा के बाद टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट की कीमत में इजाफा हुआ है। सुनने में आया है कि स्टॉक भी 21 फीसद तक उठने की संभावना है। आइए जानते हैं

टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स के शेयर के भाव के बारे में। दरअसल BSE इंट्राडे पर टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स का शेयर 4.66 फीसद की रफ्तार के साथ व्यापार कर रहा था, जो कि लगभग 777.84 रुपया बताया जा रहा था।

घरेलू ब्रोकरेज फर्म मोतीलाल ओसवाल ने कहा है कि, “हो सकता है आगे चलकर टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स के शेयर में और 20% तक की वृद्धि हो।”

tata consumer share latest news
टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स

शेयर की कीमत में 4% की दिखी वृद्धि

कॉरपोरेट ढांचे को आसान करने के लिए और कारोबार को ऊपर उठाने तथा विदेशों से तालमेल बिठाने के लिए टाटा कंपनी ने भारत और विदेशी व्यापार के पुनर्गठन करने की घोषणा की दी।

घोषणा के एक दिन के बाद बुधवार के दिन से अचानक देखा गया कि इसके शेयर की कीमत में 4% तक तेजी आ गई। जानकारी के लिए बता दें

कि यह दो घोषणाओं TCPL के साथ TCL के कॉफी ब्रांडेड बिजनेस को लेकर तथा TCP UK व्यापार में कुछ हिस्सेदारी को खरीदने वाली

एकल उपभोक्ता उत्पाद इकाई बनाने की घोषणा के साथ सामने आया।

मोतीलाल ओसवाल ने दिए शेयर से जुड़े रिपोर्ट

विलय उपभोक्ता व्यवसाय में सारा ध्यान आपसी व्यापारिक संबंधों को सरल बनाने पर केंद्रित है। tata consumer share price news

मोतीलाल ओसवाल ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा की,” इस पुनर्गठन से आशंका है कि इसके पश्चात बहुत-सी चीजें जैसे- केंद्रीय प्रबंधन ध्यान, परिचालन क्षमता, राजस्व और लागत सहक्रियाएं को भी सुधारा जा सकता है।

बता दें कि इसके अलावा ग्राहक की समानता, भौगोलिक पहुंच के जरिए बिक्री और आपूर्ति की व्यवस्था, परिचालन खर्च, बिक्री तथा वितरण नेटवर्क की सुविधा का लाभ एवं साथ ही पूंजी का

अनुकूलन की व्यवस्था को भी शामिल किया गया, ताकि एक व्यापक बुनियादी ढांचे को तैयार किया जा सके।”

Also Read -गौतम अडानी ने 2021 की तरह 2022 की शुरुआत की – किसी भी अन्य भारतीय से ज्यादा पैसा कमाया

TCL और TCPL के अधिकार वाले अंतरराष्ट्रीय ब्रांड के कारोबार में दिखेंगी मजबूती

बता दें कि इस पुनर्गठन से संभावना लगाया जा रहा है कि इससे ना केवल संचालन के संबंधों को सुधारा जाएगा बल्कि पैमाने के लाभ के साथ- साथ दोनों सूचीबद्ध संस्थाओं के कानूनी तथा

नियामक अनुपालन भी अच्छे से व्यवस्थित हो सकता हैं। बता दें कि ब्रोकरेज ने आगे कहा कि यह TCL एवं TCPL के अधिकार वाले अंतरराष्ट्रीय ब्रांड के कारोबार में अपने आधिकारिक हितों को कुशल और tata consumer share latest news

मजबूत करेगा, जिससे अत्यधिक परिचालन, लागत लाभ और बहुत सी शक्तियां प्राप्त होंगी।

मोतीलाल ओसवाल के विश्लेषकों का मानना है कि संयुक्त इकाई में टाटा टी, टेटली, टाटा कॉफी, टाटा साल्ट और टाटा संपन्न जैसे उपभोग करने वाले ब्रांडों को भी बहुत ही लाभ मिलेगा,

जो साधारण ग्राहक तक बिक्री और आपूर्ति के अवसरों को बढ़ाएगा , परिचालन को निजी तालमेल के साथ सुलभ बनाएगा  तथा अंतरराष्ट्रीय व्यापार के पुनर्गठन को भी सक्षम बनाएगा।

अंतरराष्ट्रीय ब्रांडेड बिजनेस में 5-10 % के बढ़ोतरी की संभावना

प्रबंधन प्रबंधन का कहना है कि उन्हें उम्मीद है अंतरराष्ट्रीय ब्रांडेड बिजनेस में अधिकारिक हितों की कुशलता के साथ अत्यधिक परिचालन, लागत लाभ तथा अन्य क्षमताओं से करीब करीब 5-10 % की बढ़ोतरी हो सकती है।

आगे वे कहते हैं कि वित्त वर्ष 2011 से 2024 ई. की तुलना में देखी जाए तो क्रमशः 9%, 17%, 23% की बिक्री EBITDA, PAT CAGR होने की पूरी उम्मीद करते हैं।

जेएम फाइनेंशियल ने अपने एक रिपोर्ट में कहा कि इस प्रकार का लेनदेन TCPL के मूल्यांकन और संरचना को किसी भी प्रकार से नहीं बदलेगा बल्कि संभावना है कि इससे TCPL का EPS 4 से 5 फीसद तक बढ़ेगा।

लेकिन बता दें कि वृद्धिशील आय की गुणवंता बहुत ही कमजोर देखी जा रही है क्योंकि गैर-ब्रांडेड और अंतरराष्ट्रीय चाय से यह टीसीपीएल के पोर्टफोलियो में सबसे कम पसंद की जाने वाली व्यवसाय में से एक है।

Also Read – 1 अप्रैल से होंगे वित्तीय संबंधित नियमों में ये बदलाव, आम आदमी के पॉकेट पर दिखेगा असर

Leave a Reply

Your email address will not be published.