143 वस्तुओं के मूल्य में होने वाली है बढ़ोतरी , राज्य द्वारा राजस्व बढ़ोतरी के संबंध में जीएसटी काउंसिल द्वारा मांगी गई राय 

Council in hindi

ताजा रिपोर्ट के अनुसार यह बात सामने आ रही है कि आम आदमी को आने वाले समय में और भी अधिक महंगाई की मार झेलनी पड़ सकती हैं। आने वाले महीने में जीएसटी की काउंसिल बैठक होने वाली है Council in hindi

जिसमें जीएसटी की दरों में बदलाव करने की बात हो सकती है। इंडियन एक्सप्रेस की तरफ से एक खबर सामने आई जिसके अनुसार सरकार द्वारा लगभग 143 ऐसी वस्तुएं शामिल है जिसके जीएसटी दरों में वृद्धि हो सकती हैं।

केंद्र सरकार ने इस संबंध में राज्य सरकारों से सलाह मांगी है। इस न्यूज़ के मुताबिक सेंट्रल में राजस्व की बढ़ोतरी होगी

और राज्य किसी भी प्रकार की क्षति पूर्ति के लिए केंद्र पर निर्भर नहीं रहेगा।

Gst Council Meeting today in hindi

council in hindi
जीएसटी

हालांकि जीएसटी परिषद ने अप्रत्यक्ष रुप से टैक्स व्यवस्था के संबंध में 2017 के नवंबर और 2018 के दिसंबर में कई ऐसी वस्तुएं के दरों में कटौती होने का निर्णय लिया था।

साल 2017 के नवंबर महीने में गुवाहाटी में चमड़े के परिधान, प्लास्टिक फर्ज कवरिंग, ध्वनि रिकॉर्डिंग उपकरण, सहायक उपकरण, कोको पाउडर और बख्तरबंद टैंक जैसे विभिन्न वस्तुओं के दरों में कमी की गई।

इसी प्रकार साल 2018 के दिसंबर महीने में भी एक सभा के द्वारा यह निर्णय लिया गया था कि 32 इंच मॉनिटर वाली टीवी सेट और कुछ डिजिटल वस्तुओं की कीमतों में कमी की जाए

परंतु अब जीएसटी काउंसिल द्वारा इसे बढ़ाने का प्रस्ताव किया जा रहा है। 143 वस्तुओं में लगभग 92% ऐसे वस्तुएं हैं

जिसके 18% स्लैब को और भी बढ़ा कर 28 फ़ीसदी तक के स्लैब में लाने की कोशिश की जा रही है। सरकार द्वारा दर को बढ़ाने का जो प्रस्ताव किया गया है,

यह वृद्धि 2017 और 2018 में हुए कमी, जो कि साल 2019 के लोकसभा इलेक्शन से पहले हुआ था, उसे पूरी तरह से समाप्त कर सकता है।

Also Read – Bharti Airtel ने लॉन्च किया 5G लाइव सर्विस, इसके शेयरों में इन्वेस्ट कर 60% का कमा सकते हैं मुनाफा

वस्तुओं के मूल्य को बढ़ाना- 

न्यूज़ की रिपोर्ट के अनुसार यह बात भी सामने आई कि किन किन वस्तुओं के मूल्य को बढ़ाया जा सकता है।

विभिन्न वस्तुओं में जीएसटी के दर्द की बढ़ोतरी होने वाली है जिनमें से घड़ी, गुड, पापड़, पावर बैंक, परफ्यूम, सूटकेस, हैंडबैग कलर टीवी चिंगम चॉकलेट अखरोट नॉन एल्कोहलिक बेवरेज, कस्टर्ड पाउडर, वाशिंग मशीन, काले चश्मे, चमड़े के अपैरल ,कपड़ों के सामान और चश्मे के लिए फ्रेम इत्यादि शामिल है।

हालांकि गुड और पापड़ जैसी वस्तुओं पर GST शून्य थी परंतु इसमें वृद्धि कर 5 परसेंट तक बढ़ाया जा सकता है।

कलाई की घड़ी, परफ्यूम, सेविंग मशीन फॉर बॉयज, कोको पाउडर, वफल, चॉकलेट, प्लाईवुड दरवाजे, वॉश बेसिन, सिरेमिक सिंक इत्यादि जैसी वस्तुओं पर पहले तो 18% जीएसटी लगता था परंतु अब इसे बढ़ाकर 28% किया जा सकता है। gst council meeting latest update in hindi

जीएसटी की संरचना को बांटा गया है चार स्तरों में-

हालांकि यह बात सबको पता है कि जीएसटी के संरचना को चार स्तर में बांटा गया है। चार प्रकार से जीएसटी के तहत टैक्स वसूला जाता है जिसमें से 5%, 12% 18% और 28% के रूप में वस्तु पर कर लगाया जाता है।

5% की स्लैब के अंतर्गत कोयला, चीनी, काजू, मिठाई, दवाएं आदि शामिल हैं। 12% स्लैब के अंतर्गत केक, मक्खन, घी, बादाम, फोटोग्राफर आदि हैं।

18% स्लैब के भीतर वाशिंग मशीन, वेक्यूम क्लीनर, बिस्कुट, पेस्ट्री आदि शामिल है। वही बात करें अंतिम टैक्स स्तर की तो 28% स्लैब के भीतर सनस्क्रीन, तंबाकू, बीड़ी आदि हैं।

जितने भी टेक्स को कलेक्ट किया जाता है, जीएसटी के रोल आउट होने के उपरांत इस पैसे का उपयोग राज्यों द्वारा कर नुकसान की क्षतिपूर्ति के लिए होता है।

साथ ही साथ सोने से बने सभी प्रकार के ज्वेलरी पर भी 3% का टैक्स लगाया जा सकता है।

वहीं दूसरी ओर बात करें बिना ब्रांड और बिना पैकेट वाले विभिन्न खाद्य सामग्री एवं डेयरी प्रोडक्ट्स को इस सीमा से बाहर रखा गया है।

Also Read – Top 5 Ghar Baithe Business for Women, महिलाएं घर बैठे कर सकती हैं लाखों की कमाई

Leave a Reply

Your email address will not be published.